Breaking News

अयोध्या में इन गड्ढों के लिए कौन ज़िम्मेदार ? बीजेपी सरकार या राजा दशरथ ?

 



नमस्कार दोस्तों स्क्रीन पर यहां गड्ढे की दो तस्वीरें सड़क पर ऐसा गड्ढा जिसमें अगर आदमी गिरे तो सीधे अंदर समा जाए अगर बाइक सवार गिरे तो बाइक के साथ अंदर चला जाए और यहां आप देख रहे होंगे लिखा हुआ है अयोध्या में गड्ढों के लिए राजा दशरथ जिम्मेदार तो आपको लग सकता है किय मैं क्या कर रहा हं राजा दशरथ कैसे जिम्मेदार हो सकते हैं अयोध्या में गड्ढों के राजा दशरथ जो भगवान राम के पिता थे राजा अयोध्या दरअसल यह दौर ऐसा है कि सरकार की नाकामियों के लिए सरकार की असफलताओं के लिए सरकारी सिस्टम में भ्रष्टाचार के लिए जब भी कोई ऐसी बात आती है ऐसे खुलासे होते

हैं तो ऐसी लीपापोती की मुहिम चल पड़ती है जिससे जिम्मेदारी सरकार पर सरकार के मुखिया पर चाहे प्रधानमंत्री पर चाहे योगी पर कहीं किसी तरह से फिक्स ना हो सके मीडिया इस तरह से काम शुरू करता है इसलिए तंज में लिखा गया है क्या अयोध्या में जो गड्ढे हैं सड़कों पर जो गड्ढे हुए हैं इस अमृत काल में जहां राम मंदिर बना उस अयोध्या में जहां 844 करोड़ खर्च कर दिए गए 13 किलोमीटर की सड़क बनाने में सा सज्जा में जहां करीब-करीब 1050 घरों को आंशिक या पूरे तौर पर तोड़ दिया गया 600 पेड़ों को हटा दिया गया करोड़ों रुपए साफ सज्जा में खर्च हुए 300
करोड़ जमीन अधिग्रहण में उस अयोध्या में सड़कों पर अगर बारिश से पाच छ दिन के भीतर इतने गड्ढे बन गए दो दिन की बारिश तो सवाल तो मोदी जी का है सवाल तो योगी जी और मोदी जी के डबल इंजन से पूछा जाना चाहिए लेकिन कहीं यह बात नहीं आ रही है बात हो रही कुदरत का प्रकोप सिस्टम की नाकामी अफसरों की नाकामी सवाल इसलिए यह दौर ऐसा है इसलिए मैंने कहा कि फिर तो अयोध्या में अगर कुछ हो रहा है तो राजा दशरथ ही जिम्मेदार होंगे योगी मोदी नहीं है और यह आया कहां से आईडिया विनोद शर्मा एक सीनियर जर्नलिस्ट है हिंदुस्तान टाइम्स के उन्होंने कल र पर लि खा अयोध्या नगरी में
जो पानी भरा है सड़कों और गलियों में उसकी जिम्मेदारी राजा दशरथ पर है योगी जी और मोदी जी पर नहीं समझे भक्तो अब यह क्या है पूरा मामला जरा समझिए कुछ तस्वीरों को गौर से देखिए क्या हुआ है उस अयोध्या में यह गड्ढा है सड़क पर अब यह ऐसा गड्ढा है इतना बड़ा गड्ढा है जहां नीचे अगर गिरे तो सीधे सीवर में आदमी जाएगा और उसकी मौत हो जाएगी कुछ मिट के भीतर यह सड़क पर गड्ढे हुए हैं दो दिन की बारिश में अयोध्या तस्वीरें लगातार आ रही है अब यह देखिए यह भी गड्ढा है अब इसमें अगर यह बाइक वाला तो निकल के इधर से गया होगाय अगर यह बाइक वाला गलती
से भी इसमें जाए तो दो बाइक एक साथ जा सकता है सुरसा की तरह मुंह बाए सड़क पर बीच सड़क पर नई सड़क सड़क आप देख रहे हैं इस पर सफेदी लगी हुई है क्योंकि य मोदी जी योगी जी जा चुके हैं और सरकार के सारे मंत्री जाते रहते हैं लेकिन यह गड्ढे बारिश में पोल खोल दी पूरे उस अयोध्या में रामराज्य लाने के तहत या जिस तरह से अयोध्या में जो कुछ हुआ अब उसके बाद कुछ और तस्वीर उसके बाद कि क्या खेल है और यह कौन कंपनी बना रही थी किस कंपनी को ठेका दिया गया उस कंपनी का गुजरात से क्या कनेक्शन है वह सब भी जरा आगे यह तीसरी तस्वीर है ऐसे ही सड़क पर
गड्ढा बीच सड़क पर सड़क नई है य आपको दिख रहा है यहां भी काफी रंग रोगन हुआ है क्योंकि मुख्यमंत्री कई बार जा चुके हैं प्रधानमं जा चुके राम मंदिर के के प्राण प्रतिष्ठा के समारोह में खुद प्रधानमंत्री यह देखिए ऐसे ही सड़क पर गड्ढा अब यह कुछ यहां साफ सफाई या भरने की कोशिश हो रही है गड्ढे को ऊपर लिखा है अयोध्या में गड्ढों के लिए राजा दशरथ जिम्मेदार जब योगी मोदी जी नहीं है तो राजा दशरथ भी होंगे क्योंकि राजा थे अयोध्या के तो जो भी आज की गलती है उन्हीं की है जैसे कल दिल्ली एयरपोर्ट पर टर्मिनल वन का एक हिस्सा छत का हिस्सा गिरा उस एरिया का जहां लोग वेटिंग
एरिया बोलते हैं पार्किंग होती है गाड़ियां खड़ी होती है लोग आते जाते हैं सी ऑफ करते हैं उस छत के हिस्से के गिरने की वजह से एक टैक्सी चालक और आठ और लोग जो वहां थे टैक्सी वाले और लोग आठ घायल हो गए टैक्सी चालक की वहीं मौत हो गई और दर्दनाक तस्वीर कल आप सबने देखी होगी लेकिन हुआ यह कि उसके बाद और जीएमआर उस एयरपोर्ट का रख रखाव मेंटेन मेंटेनेंस करता है दिल्ली एयरपोर्ट का लेकिन उसमें पीपीपी मॉडल है सरकार और जेएमआर की साझेदारी है लेकिन हुआ यह कि एक टूल किट गैंग जो सरकार के बचाव में मोदी जी के बचाव में हर वक्त आता है उस गैंग की तरफ तरफ से जिसमें मीडिया के
सारे लोग शामिल हैं लगातार यह नैरेटिव फैलाने की कोशिश होने लगी कि यह जो एयरपोर्ट है दिल्ली का यह एयरपोर्ट तो बना था 20089 में तब तो सरकार यूपीए की थी तो इसलिए गिरा तो उसके लिए उस समय के सरकार की सरकार के मुखिया मनमोहन सिंह जिम्मेदार होंगे यह कोई नहीं आ रहा है और इस किसी ने हिम्मत नहीं दिखाई कि भैया 15 साल हो गए उस एयरपोर्ट के बने हुए 10 साल से हो गए मोदी जी के खबर यह आ रही है कि जो जीएमआर जो एयरपोर्ट का संचालन करता है उसकी जिम्मेदारी होनी चाहिए और सरकारी सिस्टम की जिम्मेदारी होनी चाहिए मॉनिटरिंग की पिलर जो लोहे के थे उसमें जंग लगा होगा 10
साल से कोई रख रखाव में कमी रह गई होगी लेकिन गिरा तो आप कह रहे हो कि पिछली सरकार जिम्मेदार थी तो इसलिए बहुत सारे लोगों ने कल भी ये सवाल उठाए थे कि फिर उस हिसाब से कल को लाल किला मैंने भी सुबह लिखा कि उस हिसाब से तो अगर लाल किला का कोई हिस्सा धस जाए तो शाहजहां को तलब करेंगे क्योंकि शाहजहां बनवा के चले गए अगर राष्ट्रपति भवन का कोई हिस्सा गिर जाए तो वाइस रा उसमें रहते थे अंग्रेजों ने बनाया उनको तलब करेंगे उनके पांच पीढ़ियां बीत गई कहीं ऊपर से बुलाएंगे उनको कोई और इमारत गिर जाए तो जिन्होंने बनाया 100 साल पहले उनको कहां से बुलाएंगे और नेहरू जी
भी इस दुनिया में नहीं है तो यह जिम्मेदारी इस दौर में 10 साल में रख रखाव की मेंटेनेंस की जिसकी है उसकी कुछ नहीं है एम्स में पानी चला चला गया वो तस्वीरें भी देख रहा हो रात से तो एम को भी नेहरू जी ने बनवाया था तो नेहरू जी जिम्मेदार है इस सरकार की तो कोई जिम्मेदारी नहीं और इसी तरह से मीडिया काम करता है इसी तरह से बचाव के नैरेटिव गढे जाते हैं ताकि महामना मोदी जी पर उनकी सत्ता पर योगी जी पर इन पर कोई आंच ना आए इनकी कोई जिम्मेदारी नहीं तो सवाल उठता अयोध्या में जो हुआ जैसे ये गड्ढे ये कैसे हुए कौन जिम्मेदार है और जिम्मेदारी के तौर पर क्या हो रही
है कुछ अफसरों के सस्पेंड करने की खबर आई है क्या अफसरों के सस्पेंड कर ने भर से भ्रष्टाचार अगर इसमें हुआ है जमकर करोड़ों का तो वह उस पर लीपापोती हो जाएगी और अयोध्या का कायाकल्प करने की जिम्मेदारी किसकी थी यूपी सरकार की पूरा डबल इंजन सरकार उसमें पूरी सरकार लगी थी तो अब यह खबर आई है सचिन गुप्ता जो अच्छे जर्नलिस्ट है दैनिक भास्कर के उन्होंने twitter4j की कंपनी भू इंफ्रा कोन प्राइवेट लिमिटेड को सिर्फ नोटिस जारी हुआ है यह रामपत 844 करोड़ रुपए में बना था तो आ गया गुजराती कंपनी का नाम और यूपी के अलग-अलग इलाकों में जो बड़े-बड़े ठेके
छोटे छोटे ठेके भी सीवर लाइन के भी ठेके क्योंकि यहां जो कंपनी जिसका नाम आ रहा है भुगन इंफ्रा कोन वह कंपनी सीवर जो इस राम पथ पर अयोध्या में सीवर लाइन बिछाई गई उसकी जिम्मेदारी उसका ठेका उस कंपनी को मिला तो गुजरात की कंपनी कंपनी अयोध्या में सीवर का ठेका ले रही है यही जब मैं बनारस में था तो पता चला बनारस में हर छोटे-बड़े ठेके गुजरात की कंपनी को मिल रही है और जब मैं अमेठी में था तो बीजेपी के कार्यकर्ता बता रहे हैं गुजराती कंपनी को अमेठी के सीवर का ठेका मिल रहा है क्या गुजराती कंपनी ये सब सीवर की एक्सपर्ट है कि हर जगह ठेके उस कंपनी को मिल रहे हैं
और अगर मिल रहे हैं तो जिम्मेदारी सिर्फ उस ठेकेदार कंपनी को या जिसने ठेका दिया पीडब्ल्यूडी के जो मंत्री वो महकमा जितेंद्र प्रसाद पीडब्ल्यूडी मंत्री थे अभी इस्तीफा शायद दिया कि नहीं मुझे नहीं पता दे दिया होगा शायद पीली बीत से सांसद बन गए बीजेपी के जितन प्रसाद मंत्री थे किसकी जिम्मेदारी सरकार योगी जी की और अयोध्या में यह सब हुआ लूट अयोध्या में हुई चूंकि प्रधानमंत्री का भाषण वह चर्चित जुमला ना खाऊंगा ना खाने दूंगा किसने खाया अयोध्या में कि आपने जो यह 844 करोड़ में जो रामपत बनाया उसमें एक बारिश में 20 गड्ढे हो गए एक बारिश में थे ऐसे कि आदमी
समाज आए गाड़ियां भी कहीं फसी है वो भी एक तस्वीर थी मेरे ख्याल से तस्वीर है शुरू में जिसमें गाड़ी भी फसी है कहीं खैर तो यह अयोध्या की तस्वीर है आज की खबर यह है कि जल निगम के तीन अफसर सस्पेंड उन अफसरों का नाम है जो मैंने बताया दैनिक भास्कर के हवाले से उसके पीडब्ल्यूडी के तीन अफसर सस्पेंड जल निगम के तीन अफसर सस्पेंड मतलब छह अफसर सस्पेंड हुए और वो जो कंपनी है भुगन इंफ्रा उसको नोटिस दे दिया गया तो मैं जरा जानने की कोशिश कर रहा था कि भुगन इंफ्रा है क्या क्या उसकी स्ट्रेंथ है और जो सड़क बनी है वह वहां की एक स्थानीय
कंपनी है फैजाबाद की उसने सड़क बनाई है वो अब टोपी ट्रांसफर का खेल भी हो रहा है सड़क बनाने वाली कंपनी कह रही है कि सीवर बनाने वाले की जिम्मेदारी थी बीजेपी के स्थानीय नेता कह रहे हैं कि बहुत इसमें लूट हुई है जैसे चिट्ठी पर नजर पड़ी मुझे चिट्ठी अ यह भेजा सचिन गुप्ता के हवाले से ही चिट्ठी मिली कोई डॉक्टर रजनीश सिंह हैं अयोध्या के इन्होंने मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी हालाकि चिट्ठी चार दिन पहले की है लेकिन फिर भी मौजू है इसलिए बात होनी चाहिए क्योंकि चैनलों पर जो चल रही है खबरें कुदरत का कहर कुदरत का प्रकोप इंद्र देवता का प्रकोप बारिश का प्रकोप
दिस दैट अरे भैया मोदी जी और योगी जी की डबल इंजन की सरकार में ये घोटाला हुआ करप्शन हुआ है उस पर बात होनी चाहिए और अयोध्या में हुआ है या तो उस पर बात करिए या वाकई यही कहिए कि राजा दशरथ की गलती है भाई उ अयोध्या के राजा तो वही थे सदियों पहले इन्होंने चिट्ठी लिखी माननीय मुख्यमंत्री जी चार चरण स्पर्श अयोध्या जनपद के विकास कार्यों में हुई लापरवाही से अवगत कराने हेतु और इस चिट्ठी में इन्होंने लिखा है कि समाचार माध्यम से समाचार पत्रों के माध्यम से संज्ञान में आया कि अयोध्या में बीते वर्षों में हुए विकास कार्यों में लापरवाही दिख रही है सीवर लाइन ध्वस्त हो
गई जगह-जगह जल भराव की समस्या हल्की बारिश में ही आ गई यह भी गौर करने की बात राम पथ भी धसने लगा है महाराज जी आपके द्वारा अयोध्या को हमेशा प्राथमिकता दी गई इसमें किसी को संदेह नहीं लेकिन आपकी इतनी शक्ति के बावजूद अयोध्या को 200 2019 के बाद से तैनात सभी अधिकारियों ने जनपद के प्रभारी मंत्री के साथ गौर कीजिए जनपद के प्रभारी मंत्री के साथ मिलीभगत करके लूट का केंद्र बना दिया है यह बीजेपी के नेता ने चिट्ठी लिखी है मुख्यमंत्री को नाम है डॉक्टर रजनीश सिंह अब मैं इस चिट्ठी की पुष्टि नहीं करता लेकिन ये चिट्ठी वायरल है तो
रजनीश सिंह ने चिट्ठी लिखी उसमें उन्होंने कहा है मिली भगत से लूट का केंद्र बना दिया गया पूज्य महाराज जी मैं आपको आदर करता हूं यह वो जो भी सभी अधिकारियों ने आपको सही जानकारी नहीं उपलब्ध करवाई स्वास्थ्य मंत्री ने स्वास्थ्य विभाग की लोक निर्माण मंत्री ने लोक निर्माण विभाग की नगर विकास मंत्री ने नगर विकास की ग्राम विकास मंत्री ने गांव के विकास की और कृषि मंत्री ने कृषि विभाग समेत सभी विभागों के विकास कार्यों की जमीनी हकीकत से शायद आपको अवगत नहीं कराया तो अब यह बीजेपी के मंत्री ने कितने लोगों का नाम लिया भाई उन्होंने कहा हर तर विभाग के
मंत्री की बात की उन्होंने कहा लोक निर्माण मंत्री जिन्होंने जिन जो उनके हिसाब से जिन्होंने सही काम नहीं किया या विकास का में अनदेखी हुई उसके जिम्मेदार नगर विकास मंत्री नगर विकास यह सब योगी सरकार के मंत्री हैं इन सबकी जिम्मेदारी तय होने की बजाय यह छोटे जल निगम और पीडब्ल्यूडी के सिर्फ अवसर यह हो रहे कृषि मंत्री कृषि मंत्री इसी तरह से ग्राम्य विकास मंत्री ग्रामीण विकास मंत्री ग्रामीण विकास मंत्री तो यह बीजेपी के नेता ने कहा कि यह इन मंत्रियों ने अगर जिम्मेदारी निभाई होती और ठीक से अगर वहां डेवलपमेंट पर नजर रखा गया होता तो शायद





\



ऐसी स्थिति नहीं आती फिलहाल तो यह तो यह स्थिति बीजेपी के नेता की चिट्ठी से पता चलती है उसके बाद जो गुजरात की कंपनी है जिसका जिक्र हमने किया जो आ रही है जिक्र जो गुजरात की कंपनी भुगन इंफ्रा अब इसमें जो जानकारी मिली कि सीवर लाइन के मेन होल की जगह सड़क पर ठीक से रोलिंग नहीं की गई दैनिक भास्कर ने आज खबर छापी है उज्जवल सिंह दैनिक भा के रिपोर्टर है उनके हवाले से तारीफ करूंगा उज्जवल सिंह की अच्छी खबर जानकारी पूर्ण खबर है इसमें यह बताया गया कि जल्दबाजी में अयोध्या में सड़क निर्माण हुआ टारगेट दिया गया जल्दी करने का क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी को जल्दी थी
चुनाव के पहले किसी ढंग से राम मंदिर बने और मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हो ताकि देश में राम मंदिर बनाने वाले प्रधानमंत्री के तौर पर जल्दी चुनाव में उसका फायदा उठा सके और कितना तमाशा हुआ प्राण प्रतिष्ठा के दौरान आपने देखा अधूरा मंदिर का में प्राण प्रतिष्ठा हुई शंकराचार्य ने तराज जताया कि अधूरे मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा नहीं होती है खबर यह आई कि मंदिर के एक हिस्से से भी छत चू रही थी टपक रही थी प्रधान पुजारी का बयान भी आ गया तो कहा यह गया कि सब कुछ जल्दबाजी में हुआ और जल्दबाजी की वजह से हुआ इसी में खबर है कि राम पथ बनाने का जिम्मा लोक निर्माण विभाग
पीडब्ल्यूडी को दिया गया इसका ठेका आरएनसी इंटर इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया 844 करोड़ बजट से सड़क का निर्माण जनवरी 2023 में शुरू हुआ और मानकों के अनुसार 15 महीने का टाइम मिलना चाहिए जनवरी 2023 में शुरू अगर हुआ तो 15 महीने मान ले तो मई जून 2024 तक होना चाहिए अगर समय पर होता तो लेकिन जल्दी में उनसे काम करने को उनको टारगेट जल्दी का दिया गया और इसी में है कि दो फेज में निर्धारित टाइमलाइन के हिसाब से काम पूरा हुआ लेकिन 11 नंबर 2023 को अयोध्या में भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम होना था उसे देखते हुए सड़क निर्माण को तय समय से पहले
पूरा करने का आदेश आ गया क्योंकि सारा कुछ ट करना था एक माहौल देश में दीपोत्सव और उसके बाद मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का समारोह अधूरे मंदिर में उसी में है सर्किट इसीलिए सर्किट हाउस से शहादत गंज का काम जल्दबाजी में पूरा करना पड़ा और हर काम इस तरह से जल्दबाजी में पूरा हुआ टाइमलाइन से पहले हैंड ओवर करने के आदेश दिए गए अब यह उस अयोध्या में हुआ जहां बताइए जरा इतनी तस्वीरें आई बिलखते परिजन रोते लोग जिनका घर अयोध्या में इस भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए और इस तरह की जो सड़क बनाई जा रही थी रामपत उसके निर्माण के लिए जिनके घर तोड़े गए वह तस्वीरें वायरल हुई
थी 1050 घर आंशिक तौर पर या पूरे तौर पर तोड़ दिए गए और बिलखते परिवार श्राप दे रहे थे कि हमारा घर छीन लिया आपने यह सड़कें चोरी करने के लिए पेर काट दिए गए 600 पेर ने आज फिर से छापा यह नंबर पहले भी आ चुके हैं मुआवजा दिया गया जमीने अधिग्रहण चाहे अनचाहे की गई और उसके बाद सड़क आपने ऐसी बनाई सीवर बनाने का ठेका आपने उस कंपनी को दिया गुजरात की कंपनी और उसके बाद आप सिर्फ नोटिस भेजकर यह औपचारिकता कर रहे हैं नोटिस भेज दिया और ये छोटे अधिकारियों को जल निगम के तीन अफसर सस्पेंड और पीडब्ल्यूडी के तीन अफसर सस्पेंड छह अधिकारियों को आपने सस्पें कर दिया क्या
यह काफी है और क्या यह जिम्मेदारी तय करता है सर्ष पर जो लोग बैठे थे वो जो पांच-छह अलग-अलग महकमों के मंत्री थे जो लगातार मुआय कर रहे थे यहां तक यूपी यूपी के डिप्टी सीएम कई बार जा रहे थे खुद मुख्यमंत्री जा रहे थे क्या उन उनकी जिम्मेदारी नहीं बनती है कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं शुरू तो यह हुआ कि बारिश की जब पहली बार खबर आई और खबर आई कि स्टेशन से सटी एक दीवार जो रेलवे की संपत्ति है वोह दीवार ढा गई बारिश से पहली बारिश उसके बाद हम लोगों ने भी जो खबर आई सचिन गुप्ता ने ही लिखी व खबर मैंने भी ट्वीट किया सचिन के हवाले से जो दैनिक भास्कर के
रिपोर्टर हैं यूपी के शानदार रिपोर्टर हैं हर खबर उत्तर प्रदेश की सबसे पहले वहां से जो स्थानीय समाजवादी पार्टी के विधायक रहे पवन पांडे उनका एक वीडियो आया है जिसमें उन्होंने पहली बरसात नहीं अयोध्या की पूरी पोल खोलकर रख दी है देश के प्रधानमंत्री से लेकर और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री तक पूरे देश में जिस अयोध्या का गुणगान करते हैं कि हजारों करोड़ रुपया देकर हमने अयोध्या को स्वर्ग बना दिया आज अयोध्या को नर्क बनाने में कोई कोर कसर नहीं है अयोध्या के जो प्रधान पुजारी हैं सतेंद्र दास जी बता रहे हैं कि मंदिर चू रहा है
अयोध्या की सारी गलियों में जल भराव है पानी पूरी तरह भरा हुआ है और दूसरी तरफ जिस रेलवे स्टेशन का उद्घाटन देश के प्रधानमंत्री जी ने किया था पहली बरसात में दो महीने के अंदर ही बाउंड्री गिर गई और उस रेलवे स्टेशन में इतना पानी भरा है घुटने से ऊपर पानी भरा है कि यात्रियों को पानी में तैर कर नहा कर जाना पड़ रहा है ये अयोध्या है पूरी अयोध्या दुर्दशा का शिकार है अयोध्या के लोगों का जीवन नरक के समान हो गया है और इसको बनाने का श्रेय अगर किसी को जाता है तो भारतीय जनता पार्टी की सरकार देश की सरकार प्रदेश की सरकार हर हफ्ता योगी जी उत्तर प्रदेश
अयोध्या आते थे अयोध्या का निरीक्षण करते थे आज देखिए क्या है सड़कें छ महीना नहीं चली टूट जा रही हैं सड़कों में बड़े-बड़े गड्ढे हो जा रहे हैं पूरे मोहल्लों में पानी भरा है लोग निकल नहीं पा रहे हैं बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं ये दुर्दशा है अयोध्या की और गोदी मीडिया बताता है अयोध्या में राम राज्य है अयोध्या को स्वर्ग कर दिया अयोध्या को चमन कर दिया अयोध्या को आपने नरक स्थली बना दिया अयोध्या में आपने पूरा जल भराव कर दिया अयोध्या में आपने सड़कें ऊंची कर दी मकान नीचे हो गए लोगों के घरों में पानी जा रहे हैं लोग दुर्दशा का शिकार है इसका
श्रेय भारतीय जनता पार्टी को जाता है मैं लोगों से कहूंगा इनके खिलाफ खड़े होइए अपनी आवाज को बुलंद करिए जिस तरह से आप लोगों ने लोकसभा के चुनाव में एक साथ खड़े चलिए पॉलिटिकल बयान को मैंने रोक दिया लेकिन जो विकास की गाथा लिखी गई जो कह रहे पवन पांडे सड़कें ऊंची कर दी गई निर्माण जिस तरह से हुआ उसमें कई इलाके नीचे हो गए और उसके बाद जो जल जमाव और जल भराव हुआ उसके शिकार हुए बहुत सारी तस्वीरें तैर रही हैं जो ये एक तस्वीर है जिसमें पीएससी के बटालियन के लोग जो कैंप हैं जो कैंप था उसमें भी पानी गया पानी बहुत बहुत ऐसी तस्वीरें लगातार
पीडब्ल्यूडी के जिम्मेदारों के मुताबिक सड़क बनाने का काम आरएनसी इंजीनियर्स इंफ्रा इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड ने पा साल की गारंटी पर लिए है सड़क खराब होती है उसकी जिम्मेदारी होगी लेकिन जो निर्माण कंपनी में राम पथ के प्रोजेक्ट मैनेजर हैं प्रदीप शुक्ला उन्होंने कहा सड़क वहां ज्यादा धसी है जहां सीवर के मेन होल हैं 30 फीट गहरे गड्ढे बनाए गए थे इसके बाद सीवर लाइन डाली गई ऐसे में कुछ जगह समस्या आई और बारिश हालांकि लीपापोती भी हो रही है कि बारिश में ऐसी समस्या आ जाती है यही जो मैंने आपको शुरू में बताया राजपथ धसने पर छह निलंबित गुजरात की कंपनी को नोटिस
मतलब गुजरात की कंपनी को नोटिस भेज दिया गया प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह के सूबे की कंपनी गुजराती कंपनी अभी गुजराती कंपनी कौन है अभी वीडियो तो बहुत है क्योंकि बहुत आपने देखा होगा इसलिए बहुत वीडियो में प्ले नहीं कर रहा हूं सारे वीडियो हैं जैसे वहां पे लोगों के घरों में पानी घुस गया है और लोग परेशान हैं हर घर में दो-दो फीट तीन-तीन फीट पानी चार-चार फीट बल्कि जिस अधिकारी को सस्पेंड किया गया है जिन अधिकारियों को सस्पेंड किया गया है उन अधिकारियों के सरकारी आवास में भी पानी है एक एक दो दो फीट पानी मतलब कोई आपने इंतजाम नहीं किया हैंड ओवर कर
दिया और उसके बाद तमाशा क्रिएट किया कि अयोध्या का कायाकल्प कर दिया इतना खर्च करके सरकारी खजाने से और इसमें लूट हुई इसकी जांच कौन करेगा क्योंकि ठेके में और इस तरह की के जो काम होते हैं उसमें कमीशन खोरी होती है हिस्सेदारी होती है पार्टनर शिप होती है उसकी जिम्मेदारी कौन तय करेगा प्रधानमंत्री मोदी तो कहते हैं उनके पास वह ड्रोन से भेजकर सब चीज पता कर लेते हैं क्वालिटी कंट्रोल पता कर लेते हैं तो क्यों नहीं प्रधानमंत्री ड्रोन भेज रहे थे कि कैसे काम हो रहा है आज ही भेज दे गड्ढे चेक करने के लिए कि 20 गड्ढे जो राम पथ पर
बन गए यह जो सड़क अभी अभी बनी है नई नई सड़क उस राम पथ पर जिसका निर्माण 13 किलोमीटर 814 करोड़ से हुआ क्योंकि जमीने अधिग्रहण की गई बहुत सारी चीजें हुई तो दो चार ड्रोन भेजे प्रधानमंत्री वो ड्रोन जाकर इस गड्ढे के भीतर भी चेक कर सकता है कि कोई साजिश तो नहीं है कहीं कहीं पाकिस्तान की चीन की विदेशी साजिश तो नहीं है कोई और नेहरू जी तो कुछ ऐसा नहीं करके गए थे 50 60 के दशक में जिसकी वजह से अयोध्या में गड्ढा हो रहा है राजा दशरत का तो जिक्र हमने किया कौन जिम्मेदारी लेगा मैंने फिर जानने की कोशिश की कि कंपनी कौन है जिसका गुजरात की कंपनी का जो मैंने
आपको कहा तो जरा उसको देखते हैं यह कंपनी है यह कंपनी हां यह कंपनी है भुगन इंफ्रा कोन प्राइवेट लिमिटेड अब यह कंपनी है जो वाटर एंड वेस्ट वाटर मैनेजमेंट या प्रोजेक्ट्स करती है अब सवाल यह उठता है कि आप गुजरात की कंपनी को अगर यूपी में ठेका दे रहे हैं और भी राज्यों में दे रहे होंगे यूपी में तो कई जिलों में तो इसका कोई कनेक्शन होगा कोई वजह होगी कोई सेटिंग होगी सत्ता में बैठे लोगों से कोई सेटिंग होगी और अगर उसके बाद सड़कें धस गई एक जगह नहीं 20 जगह ऐसी धस गई क कोशिश कर रहा था लगातार अयोध्या की
तस्वीरें आ रही है जो अलग-अलग जगह वाटर लॉगिंग स्टेशन है कैसे लोग परेशान हैं उसी राम की नगरी में जिसका कायाकल्प करने का जिम्मा लिया था प्रधानमंत्री मोदी ने और जितना व कर सकते थे उसका चुनावी फायदा वो मोदी जी ने उठा लिया तो अब आते हैं फिर हम वापस फिलहाल तो दिल्ली एयरपोर्ट का जिक्र किया जबलपुर एयरपोर्ट भी उसका भी एक हिस्सा छत गिरा नीचे कार एक अ अगर उस कार में कोई बैठा होता तो शायद वहां भी मौत हो चुकी होती और भी छिटपुट ऐसी जानकारियां आ रही है लेकिन बात चकि लीपापोती की होती है और मीडिया की भूमिका चकि यह होनी चाहिए कि आप सीधे तय
करिए शीर्ष पर बैठे लोगों की जिम्मेदारी बजाय इसके कि छोटे लोगों पर टोपी ट्रांसफर करें और उसके बाद बात को खत्म कर दें इसलिए मुझे लगा कि बात इसी तरह से होनी चाहिए कोई नहीं तो राजा दशरथ जिम्मेदार फिलहाल इस वीडियो को यहीं खत्म करते हैं इस अपील के साथ अयोध्या वासियों से कि आप मुखर आवाज बुलंद कीजिए घर तोड़े गए जंगल और पेड़ काटे गए पेड़ काटे गए इतना कुछ होने के बाद अगर अयोध्या को यह मिला है तो विरोध की बुलंद आवाजें देश में जरूरी है क्योंकि मीडिया वह काम कर नहीं रहा है जिनके घरों में पानी जा रहा है वह सरकार से जिलाधिकारी के पास जाएं





No comments