Breaking News

अदालत में बीजेपी की ED शर्मिंदा हेमंत सोरेन रिहा! राहुल:संविधान की रक्षा करने वाले सोरेन के साथ सत्य


झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को अदालत ने रिहा कर दिया है यह कहते हुए कि उन पर कोई भी केस नहीं बनता राहुल गांधी ने कहा है कि जो व्यक्ति संविधान के लिए लड़ाई लड़ता है सत्य उसकी रक्षा करता है हम आपको सुनाएंगे कि कल्पना सोरेन ने क्या कहा रिहाई के बाद हेमंत सोरेन ने क्या कहा मगर आज मैं आपके सामने कुछ सवाल रखना चाहता हूं दोस्तों अब जबक अदालत ने कह दिया कि कोई मामला ही नहीं बनता है तो क्या जवाब तय होगी भारतीय जनता पार्टी सरकार की क्या जवाबदेही तय होगी बीजेपी की क्या जवाबदेही तय होगी मोदी की एजेंसीज की यह व्यक्ति छ महीने तक करीब आधा साल तक

(00:42) जेल में था इस व्यक्ति को चुनावों के दौरान जेल में रखा गया इस व्यक्ति को बदनाम किया गया यह बताते हुए कि यह भ्रष्ट है और जाहिर सी बात है उनके जेल में रहने का असर उनके वोटर्स पर भी पड़ा होगा इसकी जवाबदेही कौन तय करेगा वो छ महीने जो हेमंत सोरेन जेल में थे उस वक्त को कौन लौटाए आज मैं एक और भविष्यवाणी कर रहा हूं दोस्तों जिस तरह से हेमंत सोरेन रिहा हुए हैं मुझे पूरा विश्वास है कि अरविंद केजरीवाल भी रिहा होंगे मनीष सिसोदिया सत्येंद्र जैन भी रिहा होंगे क्योंकि आप सब जानते हैं तमाम मामले जो हैं सिर्फ राजनीतिक हैं भारतीय जनता पार्टी ने एक

(01:24) जरिया बना दिया है विपक्ष को ब्लैकमेल करने का और जो ब्लैकमेल को नहीं सहता है ब्लैकमेल का विरोध करता है उसे जेल जाना पड़ता है जैसा कि हेमंत सुरेन और अरविंद केजरीवाल इंतजार कीजिए दोस्तों मैं आपको बतला वाला हूं कल्पना सुरेन जो लगातार संघर्ष कर रही थी अपने पति के जेल में जाने के बाद उन्होंने क्या कहा रिहाई के बाद हेमंत सोर ने क्या कहा इन तस्वीरों में देखिए दोस्तों किस तरह से वह अपने परिवार के सदस्यों से मिल रहे हैं अपने पिता से मुलाकात कर रहे हैं जो बिस्तर में है कल्पना कीजिए कि उनके पिता को किस कदर यातना से गुजरना हुआ हो होगा

(02:01) किस तरह से यातना से गुजरना हुआ होगा उनको मगर सबसे पहले दोस्तों मैं आपको बतलाना चाहता हूं राहुल गांधी ने इसका स्वागत किया है आपकी स्क्रीन पर राहुल गांधी का बयान झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सुर जी की गिरफ्तारी बदले और राजनीतिक दुर्भावना से की गई थी उच्च न्यायालय द्वारा उन्हें जमानत देने के फैसले का हम स्वागत करते हैं सोरन जी से फोन पर बात कर अपनी खुशी हमने जाहिर की जो संविधान की रक्षा की भावना लेकर चलते हैं सत्य उनकी रक्षा करते हैं राहुल गांधी यहां पर कह रहे हैं दोस्तों और यह वह तस्वीर है जब हेमंत सुरेन जेल से रिहा हुए थे जेल से

(02:40) रिहा होने के बाद तुरंत यह तस्वीर आदिवासी पृष्ठभूमि का एक मुख्यमंत्री जिसे एक झूठे केस में फंसाया गया और उसे जेल जाना पड़ा और एक बार फिर वह अहम सवाल कि जवाबदेही कब तय होगी भारतीय जनता पार्टी की जवाबदेही कब तय होगी मोदी की एजेंसीज की जो इस तरह से विपक्ष को नेस्तनाबूद करने बर्बाद करने की बात कर रहे हैं दोस्तों इससे पहले कि मैं आपको सुनाऊं कि इस मुद्दे पर हेमंत सुरेन ने क्या कहा मैं चाहूंगा आप उनकी पत्नी को सुने और मैं आपको बताता हूं याद कीजिएगा जब इंडिया गठबंधन की रैली हुई थी हर रैली में कल्पना सोरेन पहुंचती थी चाहे पटना हो

(03:21) चाहे दिल्ली हो जहां जहां हो कल्पना सोरेन अपने पति की आवाज बनकर सामने उभर कर आई याद कीजिएगा जब हेमंत सो जेल में थे पूरे लोकसभा चुनावों के दौरान वो जेल में थे उनकी पत्नी उनकी आवाज बनकर जगह-जगह घूमी थी उनके लिए वोट भी मांगा था कल्पना कीजिए उस वक्त अगर हेमंत सोरेन रिहा हो जाते तो जिस तरह से अरविंद केजरीवाल को रिहा किया गया था यह सबसे बड़ी बात और यह बहुत अहम सवाल है दोस्तों इस पर गौर कीजिएगा अगर हेमंत सोरेन को लोकसभा चुनावों से पहले क्लीन शट मिल जाती आप कल्पना कर सकते हैं झारखंड में इंडिया गठबंधन की क्या आंधी आती किस तरह की शानदार जीत झारखंड की तमाम

(04:06) लोकसभा सीटों में मिलती भारतीय जनता पार्टी का सूपड़ा साफ हो जाता दोस्तों इसीलिए मैं कहता हूं प्रक्रिया ही सजा है आप किसी को जेल में डाल दो वह बदनाम होता रहे किसी को जेल में डाल दो उसे टॉर्चर करते रहो उस पर दबाव बनाओ कई दबाव में आ जाते हैं जो कि आपने महाराष्ट्र में देखा छगन भुजबल नारायण राण अजीत पवार अशोक चौहाण कई नेता हैं एकनाथ शिंदे फैक्न के कई नेता हैं जिन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी छगन भुजबल तो जेल में थे ना आज की तारीख में वह इस सरकार का हिस्सा बन गए हैं मगर पहले सुनते हैं कल्पना सुरेंद्र ने क्या कहा दोस्तों अपने नेता हेमंत

(04:50) सुरेंद्र जी को सुनना चाहेंगी और जिस पल का बेसब्र से इंतजार हम सभी लोग कर रहे थे झारखंड की जनता कर रही थी य के सारे हमारे पार्टी भरकर हमारे गठबंधन के लोग कर रहे थे मुझे लगता है झारखंड की जनता के साथ आप पूरी देश की जनता सुनेगी कि हेमंत सुरेंद जी सबसे क्या कहना चाहते हैं बस आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद है और मैं न्यायपालिका को अपनी तरफ से बहुत प्रणाम करती हूं और आज का दिन बहुत ज्यादा भावुक करने वाला तो शब्दों शब्द की आज कुछ ज्यादा कमी हो गई है इसलिए बहुत बहुत धन्यवाद और फिर झारखंड की जनता को इंतजार था अपने नायक का हेमंत

(05:27) सोरेन का वो हेमंत सोरेन जिनकी आवाज हमने एक ही बार सुनी थी जब उन्हें कुछ दिनों के लिए रिहा किया गया था जब उन्होंने विधानसभा में वो भावात्मक संदेश दिया था सुनिए रिहा होने के बाद हेमंत सोरेन ने किस तरह से जनता के सामने अपनी बात रखी सुनिए किया जा रहा है यह भी किसी देश पूरे देश में छुपा नहीं है और न्याय पाने में जो वक्त लगता है वह वक्त जो सामान्य वक्त से महत्त्वपूर्ण वक्त होते हैं उन वक्त को बड़े सुजित तरीके से वर्तमान वक्त में लोगों के लिए मुसीबत खड़ी कर रही है एक झूठे मन गणन कहानी गड़क मुझे पाच महीनों तक जेलों के अंदर रखा गया इसी तर इसी

(06:12) प्रकार आप देख रहे होंगे देश के अलग-अलग हिस्सों में कहीं पत्रकार बंद है कहीं सरकार के विरुद्ध आवाज उठाने वाले लोग और उनकी आवाज को कुचलने का काम किया जा रहा है दिल्ली में मुख्यमंत्री जेल में बंद है कई एक मंत्री रहते हुए लोगों को जेल में डाल दिया जा रहा है और न्याय की प्रक्रिया इतनी लंबी हो रही है कि दिन महीने नहीं वर्षों लग रहे हैं और कहीं ना कहीं जो लोग पूरी शिद्दत के साथ अपने अपने राज अपने अपने समाज अपने अपने देश के प्रति अपने दायित्वों का निर्वाहन कर रहे हैं उन सब में बाधाएं डाली जा रही है आज मैं बहुत कुछ नहीं कहूंगा लेकिन आज अंत गत्वा मैं

(06:53) फिर से राज की जनता के बीच में हूं और जो लड़ाई हमने और जो संकल्प हमने लिया है उस को निश्चित रूप से मकाम तक भी पहुंचाने का हम काम करेंगे आज मुझे लगता है यह एक संदेश है राज के लिए नहीं पूरे देश के लिए कि किस तरीके से हमारे विरुद्ध षड्यंत्र रचा गया है अभी कानून के जो आदेश हैं वह आपके सामने आपको देखने को मिलेगा और किन बातों को उसमें उद्धृत किया गया है वह भी आपको देखने को मिलेगा मैं अपनी जुबान से कहने कहना नहीं चाहता इसलिए मुझे लगता है जो भी न्यायालय के आदेश हैं उस न्यायालय के आदेश को आप लोग बेहतर तरीके से आकलन करें समीक्षा

(07:38) करें आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खामोश नहीं रह सकते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आदत है हर मुद्दे पर खामोश बने रहने की मगर इस पर आपको सामने आना पड़ेगा आपको बताना पड़ेगा आपको जवाबदेही तय करनी पड़ेगी आप लगातार अपनी रैली में चुनावी रैली में हेमंत सोरेन को गाली देते रहे उनके बारे में अनर्गल बातें करते रहे आज अदालत ने उन्हें रिहा कर दिया है मैं आपको बलानेपोस्थितिस ने कहा कि वे प्रिवेंशन ऑफ मनी लरिंग एक्ट पीएमएलए एक्ट के तहत जमानत की दोनों शर्तों को पूरा करते हैं कोर्ट के फैसले के बाद सुरेन के सरकारी आवास में मिठाई

(08:41) बांटी गई हेमंत को इस मामले में 31 जनवरी की रात ईडी ने गिरफ्तार किया था जमानत याचिका पर 13 जून को सुनवाई पूरी हो चुकी थी जस्टिस रंगन मुको उपाध्याय की अदालत में पिछले तीन दिन सुनवाई हुई कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था मैं आपको बतलाना चाहता हूं कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लरिंग एक्ट के तहत जो दो शर्तें होती हैं दोस्तों उसे पूरा कर रहे थे हेमंत सोरेन इसलिए उन्हें जमानत पर रिहा किया गया है और वो मामला क्या है आपकी स्क्रीन पर पीएमएलए एक्ट के सेक्शन 45 के तहत जमानत की दो शर्तें और वो कौन सी दो

(09:20) शर्तें हैं उस पर गौर कीजिएगा पहला यह विश्वास करने का कोई कारण ना हो कि आरोपी ने कथित अपराध किया दूसरा जमानत पर रहने के दौरान आरोपी इस तरह का कोई अपराध नहीं करेगा कोर्ट ने यह भी कहा कि सोरेन दोनों शर्तों को पूरा करते हैं इसीलिए अदालत उन्हें रेगुलर जमानत दे रही है फिर से इस तस्वीर को देखिए जहां हेमंत सोरेन अपनी पत्नी से मिल रहे हैं अपने परिवार से मिल रहे हैं प्रधानमंत्री आज आपको सामने आना पड़ेगा आप तमाम मुद्दों पर खामोश रहते हैं मगर आपको बताना पड़ेगा कि आपकी एजेंसीज जिस तरह से लोगों पर राजनीतिक निशान साधते हैं उसकी जवाबदेही

(10:02) कब तय होगी बताइए ना आपकी एजेंसीज अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ झूठे केस गड़ हैं झूठ का सहारा लेते हैं और बार-बार लेते हैं कुछ देर बाद मैं उसका खुलासा करूंगा खासतौर से अरविंद केजरीवाल के मामले में आप चुप नहीं रह सकते ऐसा नहीं हो सकता प्रधानमंत्री की आप चुनावी रैलियों में अपने राजनीतिक विरोधियों को गाली दें कि ये लोग बेल पर रहा है यह लोग बेल पर बाहर हैं आपकी एजेंसी क्या करती मैं आपको याद दिलाना चाहूंगा कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लरिंग एक्ट के अंतर्गत जब जमानत मिलती है तब अदालत यह कहती है कि हम यह जमानत इसलिए दे रहे हैं क्योंकि हमें

(10:42) विश्वास है कि इन्होंने य गुनाह नहीं किया है आपकी स्क्रीन पर यह है अरविंद केजरीवाल इन्हें दिल्ली की राउज एवेन्यू अदालत ने जस्टिस न्याय बिंदु ने बेल पर रिहा कर दिया था सबसे शॉकिंग बात जब कोर्ट ये फैसला देता है आदेश औपचारिक तौर पर भी सामने उभर कर नहीं आता है मगर बावजूद उसके हाई कोर्ट उस पर रोक लगा देती है यहां पर सवाल मोदी की एजेंसीज ईडी पर तो उठ ही रहा है अदालत पर भी कि अदालत यह क्या कर रही है और सबसे शॉकिंग जब यह मामला सीबीआई अदालत जाता है क्योंकि अब आप जानते हैं इस मामले में अब सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है और जब यह मामला सीबीआई के सामने पहुंचा

(11:27) था तब सीबीआई ने कथित तौर पर तमाम समाचार चैनल्स के जरिए एक झूठ चलाया था और वो झूठ क्या था वो झूठ यह था कि अरविंद केजरीवाल ने मनीष सिसोदिया को फसा दिया है सारा दोष मर दिया यह देखिए तमाम न्यूज चैनल ने किस तरह का कचरा चलाया अरविंद केजरीवाल सामने आते हैं और अदालत में एक मिनट के लिए बोलते हैं यह सरासर झूठ है मैंने मनी सिसोदिया को नहीं फसाया इस मामले में मनीष सिसोदिया बेगुनाह है मैं बेगुनाह हूं आम आदमी पार्टी बेगुनाह है मैं आपसे कुछ पूछना चाहता हूं दोस्तों अरविंद केजरीवाल दोषी हैं नहीं है कुछ दिनों बाद तय हो जाएगा मगर आपसे सीधा

(12:09) और सरल सवाल सीबीआई को अपनी बात रखने के लिए झूठ का सहारा क्यों लेना पड़ा क्यों गोदी मीडिया के जरिए इस तरह का झूठ बोला गया मैं आपको बतलाना चाहूंगा कि जिस तरह से हेमंत सोरेन की लड़ाई उनकी पत्नी कल्पना सुरेंद्र ने लड़ी उसी तरह से अरविंद केजरीवाल की लड़ाई सुनीता केजरीवाल लड़ रही है सुनिए सुनीता ने इस मुद्दे पर क्या कहा आपकी स्क्रीन पर 20 जून अरविंद केजरीवाल को बेल मिली तुरंत ईडी ने स्टे लगवा लिया अगले ही दिन सीबीआई ने एक्यूज्ड बना दिया और आज गिरफ्तार कर लिया पूरा तंत्र इस कोशिश में है कि बंदा जेल से बाहर ना आ जाए यह कानून नहीं है यह

(12:50) तानाशाही है यह इमरजेंसी है यह आपातकाल है मुझे बताइए ना अदालत में झूठ का सा और सबसे शॉकिंग बात अदालत को सामने आना पड़ता है सीबीआई की अदालत ने कहा य बात तो अरविंद केजरीवाल ने कही नहीं अरविंद केजरीवाल ने कहीं पर भी मनीष सिसोदिया को नहीं फसाया फिर इस झूठ का प्रचार प्रसार क्यों हो रहा है याद कीजिएगा संजय सिंह ने उस वक्त क्या कहा था यह तानाशाही है यह घोर तानाशाही है सुनिए क्या कहा था संजय सिंह ने दो साल से जांच कर रही है पहली बार अरविंद केजरीवाल जी को 16 अप्रैल 2023 को बुलाया गया और गवाह के तौर पर बुलाया गया बार-बार

(13:40) मनीष सिसौदिया की जमानत के मामले में सीबीआई के अधिवक्ता और सीबीआई यही कहानी दोहरा है जो आज केजरीवाल जी के मामले में दोहराई गई और बड़ी मजेदार बात है कि जिस गुंटा रेड्डी के बयान की बात केजरीवाल के गिरफ्तारी का आधार बना रही है सीबीआई और कह रही है कि सीबीआई को उन्होंने जनवरी 2024 में बयान दिया वही मगंस दिया के मामले में बयान दे चुका है वही मंगुटाउन से हमारा कोई लेना देना नहीं है एक्साइज पॉलिसी से कोई लेना देना नहीं है सारी बातें झूठी है और उसी का बयान आपने कब लिया जनवरी 2024 जनवरी से लेकर जनवरी बीता फरवरी बीता

(14:48) मार्च बीता अप्रैल बीता मई बीता जून बीता ना गिरफ्तारी करने की याद आई ना आरोपी बनाने की याद आई याद कब आई जब ट्रायल कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल को जमानत दे दी याद कब आई जब माननीय सर्वोच्च न्यायालय से अरविंद केजरीवाल की जमानत पर ट्रायल कोर्ट की जमानत पर मोहर लगनी थी उस समय याद आई इसलिए कल आपातकाल का रोना रो रहे थे भारत के प्रधानमंत्री मैं समझता हूं इससे बड़ा आपातकाल कोई नहीं हो सकता आम आदमी पार्टी भी पीछे नहीं हट रही आपको याद होगा उसके बाद संसद में इसे बड़े पैमाने पर उठाया गया था आम आदमी पार्टी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण का भी बहिष्कार किया

(15:45) था आज आपके सामने यह दो चेहरे हैं दोस्तो हेमंत सोरेन और अरविंद केजरीवाल हेमंत को बेल पर रिहा कर दिया गया है अरविंद को भी दिल्ली की राउज एवेन्यू अदालत ने बेल पर रिहा कर दिया था और ईडी के केस पर सवालिया निशान लगाया सीबीआई की अदालत के अंदर सीबीआई झूठ का सहारा लेती है और खुद अदालत को इस पर टिप्पणी करनी पड़ती यह अपने आप में कितना शॉकिंग है दोस्तों मैं आपसे पूछना चाहता हूं क्या संगोल युग के अंदर इसी तरह से लोकतांत्रिक मूल्यों की धज्जिया उड़ाई जाती रहेंगी क्योंकि इस संगोल युग के अंदर संविधान का दर्जा संगोल से नीचे है इसीलिए

(16:28) राहुल गांधी ने कहा कहा कि जो संविधान की लड़ाई लड़ेगा सत्य उसकी रक्षा करेगा अभिसार शर्मा को दीजिए इजाजत नमस्कार स्वतंत्र और आजाद पत्रकारिता का समर्थन कीजिए सच में मेरा साथी बनिए बहुत आसान है दोस्तों इस जॉइन बटन को दबाइए और आपके सामने आएंगे ये तीन विकल्प इनमें से एक चुनिए और सच के इस सफर में मेरा साथी बनिए


No comments